Most Recent

सेबी की बोर्ड बैठक में IPO, SME IPO, MF नियमों के बारे में क्या चर्चा हुई
मार्केट रेगुलेटर सेबी की आज मुंबई में बोर्ड बैठक हुई। बैठक में  IPO, ICICI बैंक, SME IPO, MF नियमों  के संबंध में क्या-क्या चर्चा हुई, जानिए...
1) आईपीओ के प्राइस बैंड की समयसीमा इश्यू के खुलने के मौजूदा 
5 दिनों से घटाकर दो  दिन किया गया
2)बायबैक और टेकओवर के नियमों में संशोधन किया गया
3) विदेशी संविभाग निवेशक (Foreign Portfolio Investors-FPI) और
म्युचुअल फंड्स के मौजूदा नियमों को विवेकसम्मत बनाया जाएगा
4) स्टॉक एक्सचेंड, क्लीयरिंग कॉर्पोरेशन, डिपॉजिटरीज जैसे मार्केट
इंफ्रास्ट्रक्चर इंस्टीट्यूशंस (एमआईआई) में विदेशी निवेश की
सीमा 15 प्रतिशत तक करना
5) पब्लिक इश्यू/ राइट्स इश्यू का फाइनेंशियल डिस्क्लोजर
मौजूदा 5 साल के बजाय 3 साल किया गया
6) एसएमई आईपीओ के मामले में मिनिमम एंकर इन्वेस्टर साइज
मौजूदा 10 करोड़ रुपए से घटाकर 2 करोड़ रुपए किया गया

(('बिना प्रोफेशनल ट्रेनिंग के शेयर बाजार जरूर जुआ है'
((शेयर बाजार: जब तक सीखेंगे नहीं, तबतक पैसे बनेंगे नहीं! 
((जानें वो आंकड़े-सूचना-सरकारी फैसले और खबर, जो शेयर मार्केट पर डालते हैं असर
म्युचुअल फंड के बदल गए नियम, बदलाव से निवेशकों को फायदा या नुकसान, जानें विस्तार से  
((फाइनेंशियल प्लानिंग (वित्तीय योजना) क्या है और क्यों जरूरी है?
((ये दिसंबर तिमाही को कुछ Q2, कुछ Q3 तो कुछ Q4 क्यों बताते हैं ?
((कैसे करें शेयर बाजार में एंट्री 
((सामान खरीदने जैसा आसान है शेयर बाजार में पैसे लगाना
((खुद का खर्च कैसे मैनेज करें? 
(बच्चों को फाइनेंशियल एजुकेशन क्यों देना चाहिए पर हिन्दी किताब- बेटा हमारा दौलतमंद बनेगा)
((मेरा कविता संग्रह "जब सपने बन जाते हैं मार्गदर्शक"खरीदने के लिए क्लिक करें 

(ब्लॉग एक, फायदे अनेक

Plz Follow Me on: 

Rajanish kant Thursday, June 21, 2018
PPF या FD? आपके लिए फायदेमंद कौन? PPF ya FD? Faydemand kaun

PPF या FD? आपके लिए फायदेमंद कौन? PPF ya FD? Faydemand kaun

Rajanish kant
अमेरिकी शेयर बाजार बुधवार को मिलेजुले बंद हुए, डाओ जोंस गिरा, नैस्डेक बढ़ा
(अमेरिकी-यूरोपीय बाजारों का प्रदर्शन-(बुधवार)
(एशियाई बाजारों का प्रदर्शन-(बुधवार)
अमेरिकी शेयर बाजार मंगलवार को फिसले, डाओ जोंस 287 अंक लुढ़का   
(('बिना प्रोफेशनल ट्रेनिंग के शेयर बाजार जरूर जुआ है'
((शेयर बाजार: जब तक सीखेंगे नहीं, तबतक पैसे बनेंगे नहीं! 
((जानें वो आंकड़े-सूचना-सरकारी फैसले और खबर, जो शेयर मार्केट पर डालते हैं असर
म्युचुअल फंड के बदल गए नियम, बदलाव से निवेशकों को फायदा या नुकसान, जानें विस्तार से  
((फाइनेंशियल प्लानिंग (वित्तीय योजना) क्या है और क्यों जरूरी है?
((ये दिसंबर तिमाही को कुछ Q2, कुछ Q3 तो कुछ Q4 क्यों बताते हैं ?
((कैसे करें शेयर बाजार में एंट्री 
((सामान खरीदने जैसा आसान है शेयर बाजार में पैसे लगाना
((खुद का खर्च कैसे मैनेज करें? 
(बच्चों को फाइनेंशियल एजुकेशन क्यों देना चाहिए पर हिन्दी किताब- बेटा हमारा दौलतमंद बनेगा)
((मेरा कविता संग्रह "जब सपने बन जाते हैं मार्गदर्शक"खरीदने के लिए क्लिक करें 

(ब्लॉग एक, फायदे अनेक

Plz Follow Me on: 

Rajanish kant
16 जून तक 41548 करोड़ रुपये का कुल जीएसटी रिफंड किया गया-सरकार
दूसरे विशेष रिफंड पखवाड़े में 16 जून, 2018 तक 41548 करोड़ रुपये का कुल जीएसटी रिफंड किया गया, 6087 करोड़ रुपये के आईजीएसटी रिफंड को मंजूरी दी गई 
30 अप्रैल, 2018 तक सभी लंबित जीएसटी रिफंड को निपटाने के लिए सरकार द्वारा जताई गई प्रतिबद्धता के अनुरूप केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने दूसरे विशेष रिफंड पखवाड़े का सफलतापूर्वक समापन कर लिया है, जिसकी अवधि बढ़ाने के बाद 31 मई 2018 से लेकर 16 जून, 2018 तक तय की गई थी।
रिफंड पखवाड़े में 16 जून, 2018 तक 6087 करोड़ रुपये के आईजीएसटी रिफंड को मंजूरी दी गई है। दूसरे पखवाड़े के रोचक तथ्य ये हैं-(i) लगभग 1,68,191 शिपिंग बिलों की प्रोसेसिंग की गई है, (ii) लगभग 9293 निर्यातकों के आईजीएसटी रिफंड दावों को मंजूरी दी गई है। इनमें तकरीबन ऐसे 3500 नए निर्यातक भी शामिल हैं, जिनके रिफंड अटक गए थे।
इस अवधि के दौरान राज्यों के साथ-साथ सीबीआईसी के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों ने एक बार फिर निर्यातकों को रिफंड राहत देने के लिए कड़ी मेहनत की।
16 जून, 2018 तक 21142 करोड़ रुपये (आईजीएसटी रिफंड), 9923 करोड़ रुपये (सीबीआईसी द्वारा आरएफडी-01ए रिफंड) और 6997 करोड़ रुपये (राज्यों द्वारा आरएफडी-01ए रिफंड) यानी कुल मिलाकर 38,062 करोड़ रुपये को मंजूरी दी गई है। 16 जून, 2018 तक कुल जीएसटी रिफंड 41,548 करोड़ रुपये का किया गया है।
(स्रोत-पीआईबी)

Rajanish kant
सेंसेक्स आज 261 अंक उछला, निफ्टी 10,770 के पार निपटा, चीन और जापान के शेयर बाजार भी मजबूत
अमेरिकी शेयर बाजार मंगलवार को फिसले, डाओ जोंस 287 अंक लुढ़का   
(('बिना प्रोफेशनल ट्रेनिंग के शेयर बाजार जरूर जुआ है'
((शेयर बाजार: जब तक सीखेंगे नहीं, तबतक पैसे बनेंगे नहीं! 
((जानें वो आंकड़े-सूचना-सरकारी फैसले और खबर, जो शेयर मार्केट पर डालते हैं असर
म्युचुअल फंड के बदल गए नियम, बदलाव से निवेशकों को फायदा या नुकसान, जानें विस्तार से  
((फाइनेंशियल प्लानिंग (वित्तीय योजना) क्या है और क्यों जरूरी है?
((ये दिसंबर तिमाही को कुछ Q2, कुछ Q3 तो कुछ Q4 क्यों बताते हैं ?
((कैसे करें शेयर बाजार में एंट्री 
((सामान खरीदने जैसा आसान है शेयर बाजार में पैसे लगाना
((खुद का खर्च कैसे मैनेज करें? 
(बच्चों को फाइनेंशियल एजुकेशन क्यों देना चाहिए पर हिन्दी किताब- बेटा हमारा दौलतमंद बनेगा)
((मेरा कविता संग्रह "जब सपने बन जाते हैं मार्गदर्शक"खरीदने के लिए क्लिक करें 

(ब्लॉग एक, फायदे अनेक

Plz Follow Me on: 

Rajanish kant Wednesday, June 20, 2018
सेबी की बोर्ड बैठक कल, जानिए किन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा

मार्केट रेगुलेटर सेबी की कल बोर्ड बैठक होने जा रही है। बैठक में निम्न मुद्दों पर चर्चा हो सकती है...

बैठक का एजेंडा:
1) बायबैक और टेकओवर नियमों में संशोधन संभव
2)स्टॉक एक्सचेंज के चीफ एक्जिक्यूटिव की पद पर रहने
की अवधि समेत मार्केट इंफ्रास्ट्रक्चर इंस्टीट्यूशंस (एमआईआई)
(स्टॉक एक्सचेंज, क्लीयरिंग कॉर्पोरेशंस, डिपॉजिटरीज आदि)
के गवर्नेंस नॉर्म्स में बदलाव पर विचार मुमकिन
3)सेबी के पूर्व और मौजूदा कर्मचारियों से जुड़े
नियमों और भर्ती नीति बदलने पर चर्चा संभव
4) शेयर मार्केट में अधिक से अधिक निवेशकों को लुभाने
के लिए नए स्टॉक एक्सचेंज खोलने के नियमों को और
आसान बनाने पर विचार संभव
5)फिलहाल  स्टॉक एक्सचेंज में विदेशी कंपनियों
की 15 प्रतिशत हिस्सेदारी, जबकि क्लीयरिंग कॉर्पोरेशंस,
डिपॉजिटरीज में 5 प्रतिशत हिस्सेदारी की मंजूरी

सेबी की बोर्ड बैठक मुंबई में होगी।

(('बिना प्रोफेशनल ट्रेनिंग के शेयर बाजार जरूर जुआ है'
((शेयर बाजार: जब तक सीखेंगे नहीं, तबतक पैसे बनेंगे नहीं! 
((जानें वो आंकड़े-सूचना-सरकारी फैसले और खबर, जो शेयर मार्केट पर डालते हैं असर
म्युचुअल फंड के बदल गए नियम, बदलाव से निवेशकों को फायदा या नुकसान, जानें विस्तार से  
((फाइनेंशियल प्लानिंग (वित्तीय योजना) क्या है और क्यों जरूरी है?
((ये दिसंबर तिमाही को कुछ Q2, कुछ Q3 तो कुछ Q4 क्यों बताते हैं ?
((कैसे करें शेयर बाजार में एंट्री 
((सामान खरीदने जैसा आसान है शेयर बाजार में पैसे लगाना
((खुद का खर्च कैसे मैनेज करें? 
(बच्चों को फाइनेंशियल एजुकेशन क्यों देना चाहिए पर हिन्दी किताब- बेटा हमारा दौलतमंद बनेगा)
((मेरा कविता संग्रह "जब सपने बन जाते हैं मार्गदर्शक"खरीदने के लिए क्लिक करें 

(ब्लॉग एक, फायदे अनेक

Plz Follow Me on: 

Rajanish kant
US डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमत (20 जून)($1=₹ 68.0838)
अमेरिकी डॉलर के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक की संदर्भ दर
भारतीय रिज़र्व बैंक की दिनांक 20 जून 2018 को अमेरिकी डॉलर के लिए संदर्भ दर  68.0838 है। पिछले दिन (19 जून 2018) के लिए समतुल्‍य दर  68.1511 थी।
अमेरिकी डॉलर के लिए संदर्भ दर और पारस्‍परिक मुद्रा-दरों की मध्‍य दरों के आधार पर रुपये के लिए यूरो, ग्रेट ब्रिटेन पाउंड और जापानी येन की विनिमय दरें इस प्रकार हैं :
मुद्रातारीख
19 जून 201820 जून 2018
1 यूरो79.157578.8274
1 ग्रेट ब्रिटेन पाउंड90.307189.5983
100 जापानी येन62.1961.82
टिप्‍पणी : एसडीआर- रुपया दर संदर्भ दर पर आधारित होगी।


Source: rbi.org.in


Plz Follow Me on: 

Rajanish kant
वेक्टस इंडस्ट्रीज ने आईपीओ क लिए सेबी को अर्जी दी
प्लास्टिक वाटर टैंक और पाइप बनाने वाली कंपनी वेक्टस इंडस्ट्रीज ने आईपीओ के लिए मार्केट रेगुलेटर सेबी को अर्जी दी है। इस आईपीओ के जरिये कंपनी की योजना करीब ₹500 करोड़ जुटाने की है। 

इस आईपीओ के तहत कंपनी ₹85 करोड़ का फ्रेश शेयर जारी करेगी और ऑफर फॉर सेल यानी ओएफएस के जरिये मौजूदा शेयरहोल्डर कंपनी का करीब  39 लाख शेयर बेचेगी। पीई फर्म Credor की सहयोगी कंपनी Latinia  की वेक्टस इंडस्ट्रीज में 21.65 प्रतिशत हिस्सेदारी है और इस आईपीओ के जरिये वह कंपनी से पूरी तरह से अपना हिस्सा बेचकर निकल जाएगी। इस कंपनी के मौजूदा प्रोमोटर्स आशीष बहेती और अतुल लड्ढा का कंपनी में हिस्सेदारी क्रमश: 31.41 प्रतिशत और 29.19 प्रतिशत है।   

 इस आईपीओ को Edelweiss Financial Services Ltd, ICICI Securities Ltd और IDFC Bank Ltd मैनेज  कर रही है। 

>आईपीओ Vs एफपीओ  Vs ओएफएस;  IPO vs FPO Vs OFS 



Plz Follow Me on: 

Rajanish kant
हिन्दुजा लेलैंड फाइनेंस ने आईपीओ के लिए सेबी को अर्जी दी
नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी (NBFC)  हिन्दुजा लेलैंड फाइनेंस ने आईपीओ के लिए बाजार रेगुलेटर सेबी को अर्जी (DRHP-Draft Red Herring Prospectus) दी है। इसके तहत कंपनी ₹500 करोड़ का ताजा शेयर जारी करेगी जबकि ऑफर फॉर सेल यानी ओएफएस के तहत ₹600 करोड़ के शेयरों की बिक्री करेगी। 

इस आईपीओ के बुक रनिंग लीड मैनेजर Axis Capital, Citi Group Global Markets India and YES Securities  हैं। 

ऑटो कंपनी अशोक लेलैंड की सहयोगी कंपनी हिन्दुजा लेलैंड फाइनेंस में प्राइवेट इक्विटी कंपनी Everstone  करीब 13 प्रतिशत हिस्सेदारी है जो कि अपनी 50 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचना चाहती है। Everstone ने 2013 में हिन्दुजा लेलैंड फाइनेंस में ₹200 करोड़ का निवेश किया था। 

हिन्दुजा लेलैंड फाइनेंस 2008 में बनी थी और फिलहाल 20 राज्यों में कंपनी की शाखाएं हैं।  

>आईपीओ Vs एफपीओ  Vs ओएफएस;  IPO vs FPO Vs OFS 



Plz Follow Me on: 

Rajanish kant