जून में पर्यटन से विदेशी मुद्रा आमदनी (रु. में) करीब 23% बढ़ी

जून, 2017 के दौरान भारत में पर्यटन से विदेशी मुद्रा आमदनी (रुपये एवं डॉलर के संदर्भ में)  
जून, 2017 और जनवरी-जून  2017 के दौरान भारत में पर्यटन से एफईई के अनुमानों की मुख्‍य बातें निम्‍नलिखित हैं –

>पर्यटन से विदेशी मुद्रा आमदनी (एफईई) (रुपये में):    
जून, 2017 में एफईई 13,088 करोड़ रुपये रही, जबकि जून, 2016 में यह 10,677 करोड़ रुपये और जून, 2015 में 9,564 करोड़ रुपये थी। जून, 2016 के मुकाबले जून, 2017 में रुपये के लिहाज से एफईई की वृद्धि दर 22.6 प्रतिशत दर्ज की गई, जबकि जून, 2015 के मुकाबले जून, 2016 में यह वृद्धि 11.6 प्रतिशत आंकी गई थी।

जनवरी-जून 2017 के दौरान एफईई 19.7 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 87,096  करोड़ रुपये आंकी गई, जबकि जनवरी-जून 2015 की तुलना में जनवरी-जून  2016 में यह 13.6 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 72,749 करोड़ रुपये दर्ज की गई थी।

>पर्यटन से विदेशी मुद्रा आमदनी (एफईई) (अमेरिकी डॉलर में):
जून, 2017 के दौरान अमेरिकी डॉलर के लिहाज से एफईई 2.031 अरब अमेरिकी डॉलर आंकी गई, जबकि यह जून  2016 में 1.587 अरब अमेरिकी डॉलर और जून  2015 में 1.498 अरब अमेरिकी डॉलर दर्ज की गई थी। जून, 2016 के मुकाबले जून, 2017 में अमेरिकी डॉलर के लिहाज से एफईई की वृद्धि दर 28.0 प्रतिशत रही, जबकि जून, 2015 की तुलना में जून  2016 में यह वृद्धि 5.9 प्रतिशत रही थी।

जनवरी-जून  2017 के दौरान एफईई 22.3 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 13.230 अरब अमेरिकी डॉलर आंकी गई, जबकि जनवरी-जून  2015 की तुलना में जनवरी-जून 2016 में यह 6.0 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10.818 अरब अमेरिकी डॉलर दर्ज की गई थी।   

नोट : एफईई आकलन निम्‍नलिखित घटकों पर आधारित है :-

-अप्रैल-जून 2016 = आरबीआई क्रेडिट आंकड़े वास्‍ते यात्रा (अप्रैल-जून 2016)/ एफटीए (अप्रैल-जून 2016) के दौरान प्रति व्‍यक्ति एफईई।
-जून, 2017 के लिए एफईए।
-जून, 2017 के लिए सीपीआई (यू) पर आधारित मुद्रास्‍फीति घटक।

पर्यटन मंत्रालय रुपये एवं डॉलर दोनों ही लिहाज से भारत में हर महीने पर्यटन के जरिए विदेशी मुद्रा आमदनी (एफईई)  का आकलन करता है। यह भारतीय रिजर्व बैंक के भुगतान संतुलन से जुड़े यात्रा प्रमुख के आंकड़ों पर आधारित होता है।

(Source: pib.nic.in)


('बिना प्रोफेशनल ट्रेनिंग के शेयर बाजार जरूर जुआ है'
((शेयर बाजार: जब तक सीखेंगे नहीं, तबतक पैसे बनेंगे नहीं! 
((जानें वो आंकड़े-सूचना-सरकारी फैसले और खबर, जो शेयर मार्केट पर डालते हैं असर
((ये दिसंबर तिमाही को कुछ Q2, कुछ Q3 तो कुछ Q4 क्यों बताते हैं ?
((कैसे करें शेयर बाजार में एंट्री 
((सामान खरीदने जैसा आसान है शेयर बाजार में पैसे लगाना
((खुद का खर्च कैसे मैनेज करें? 

((मेरा कविता संग्रह "जब सपने बन जाते हैं मार्गदर्शक"खरीदने के लिए क्लिक करें 

(ब्लॉग एक, फायदे अनेक

Plz Follow Me on: 
((निवेश: 5 गलतियों से बचें, मालामाल बनें Investment: Save from doing 5 mistakes 

No comments