देश पर मार्च 2017 तिमाही में विदेशी कर्ज में कमी, सालाना आधार पर 2.7 प्रतिशत घटा, जीडीपी का 23.5 प्रतिशत से घटकर 20.2 प्रतिशत हुआ

विदेशी कर्ज के मामले में भारत के लिए अच्छी खबर है। इस साल मार्च तिमाही में सालाना आधार पर इसमें 2.7 प्रतिशत की गिरावट आई है। जीडीपी के मुकाबले इसकी गणना करें तो इसमें भी कमी दर्ज की गई है। पिछली साल मार्च तिमाही में यह जीडीपी का 23.5 प्रतिशत था जो कि इस साल मार्च तिमाही में कम होकर 20.2 प्रतिशत हो गया। विदेशी कर्ज में यह कमी मुख्य तौर पर एनआरआई डिपॉजिट और वाणिज्यिक उधारी में कमी के कारण आई है। 
आरबीआई के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल मार्च तिमाही तक देश पर 471.9 बिलियन अमेरिकी डॉलर का विदेशी कर्ज था जो कि इस साल मार्च तिमाही में 13.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर कम हुआ है।
मार्च 2017 की समाप्ति पर भारत का बाह्य ऋण
मानक प्रथा के अनुसार, मार्च और जून की समाप्त तिमाहियों के लिए भारत के बाह्य ऋण की सांख्यिकी भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा एक तिमाही के अंतराल पर जारी की जाती है और सितंबर और दिसंबर की समाप्त तिमाहियों की सांख्यिकी वित्त मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी की जाती है। मार्च 2017 के अंत में भारतीय रुपया और अमेरिकी डॉलर में बाह्य ऋण के आंकड़े और इससे पहले की तिमाहियों के संशोधित आंकड़े क्रमशः विवरण 1 और 2 में दिए गए हैं। मार्च 2017 की समाप्ति पर भारत के बाह्य ऋण से संबंधित प्रमुख गतिविधियां नीचे प्रस्तुत हैं।
मुख्य-मुख्य बातें
मार्च 2017 की समाप्ति पर भारत के बाह्य ऋण में मार्च 2016 के अंत में इसके स्तर से 2.7 प्रतिशत की गिरावट देखी गई जिसका मुख्य कारण अनिवासी भारतीय (एनआरआई) जमाराशियों और वाणिज्यिक उधारों में कमी रही। बाह्य ऋण की मात्रा में कमी आंशिक रूप से भारतीय रुपया की तुलना में अमेरिकी डॉलर के मूल्यह्रास के परिणामस्वरूप होने वाली मूल्यांकन हानि के कारण हुई। मार्च 2017 के अंत में बाह्य ऋण जीडीपी के अनुपात में 20.2 प्रतिशत था जो मार्च 2016 के अंत में अपने 23.5 प्रतिशत के स्तर से कम है।
मार्च 2017 के अंत में भारत के बाह्य ऋण से संबंधित प्रमुख बातें नीचे प्रस्तुत हैं:
  • मार्च 2017 के अंत में भारत का बाह्य ऋण 471.9 बिलियन अमेरिकी डॉलर था जिसमें मार्च 2016 के अंत में इसके स्तर से 13.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर की गिरावट दर्ज की गई (सारणी 1)।
  • भारतीय रुपया की तुलना में अमेरिकी डॉलर के मूल्यह्रास के कारण मूल्याकंन हानि 1.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर रखी गई। मूल्यांकन प्रभावों को छोड़कर बाह्य ऋण में गिरावट मार्च 2016 के अंत में इसके स्तर की तुलना में मार्च 2017 के अंत में 13.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर की बजाय 14.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर होती।
  • वाणिज्यिक उधार बाह्य ऋण का सबसे बड़ा घटक रहा जिसकी हिस्सेदारी 36.7 प्रतिशत रही जिसके बाद एनआरआई जमाराशियां (24.8 प्रतिशत) और लघुकालिक व्यापार क्रेडिट (18.3 प्रतिशत) रहे।
  • मार्च 2017 के अंत में दीर्घावधि ऋण 383.9 बिलियन अमेरिकी डॉलर था जिसमें मार्च 2016 के अंत में इसके स्तर से 17.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर की गिरावट दर्ज की गई।
  • मार्च 2017 के अंत में कुल बाह्य ऋण में दीर्घावधि ऋण की हिस्सेदारी 81.4 प्रतिशत रही जो मार्च 2016 के अंत में 82.8 प्रतिशत से थोड़ी कम है।
  • कुल बाह्य ऋण में लघुकालिक ऋण (मूल परिपक्वता) की हिस्सेदारी मार्च 2016 के अंत में 17.2 प्रतिशत से बढ़कर मार्च 2017 के अंत में 18.6 प्रतिशत हो गई। विदेशी मुद्रा भंडार की तुलना में लघुकालिक ऋण का अनुपात मार्च 2017 के अंत में 23.8 प्रतिशत हो गया (मार्च 2016 के अंत में 23.1 प्रतिशत)।
  • अवशिष्ट परिपक्वता आधार पर लघुकालिक ऋण मार्च 2017 के अंत में कुल बाह्य ऋण का 41.5 प्रतिशत था (मार्च 2016 के अंत में 42.7 प्रतिशत) और यह कुल विदेशी मुद्रा भंडार का 52.9 प्रतिशत था (मार्च 2016 के अंत में 57.4 प्रतिशत) (सारणी 2)।
  • अमेरिकी डॉलर मूल्यवर्गांकित ऋण मार्च 2017 के अंत में 52.1 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ भारत के बाह्य ऋण का सबसे बड़ा घटक रहा, जिसके बाद भारतीय रुपया (33.6 प्रतिशत), एसडीआर (5.8 प्रतिशत), जापानी येन (4.6 प्रतिशत) और यूरो (2.9 प्रतिशत) रहे।
  • उधारकर्ता वर्गीकरण दर्शाता है कि सरकार का बकाया ऋण बढ़ गया तथापि, गैर-सरकारी ऋण में मार्च 2017 के अंत में गिरावट हुई (सारणी 3)।
  • ऋण सेवा भुगतान मार्च 2016 के अंत में 8.9 प्रतिशत की तुलना में मार्च 2017 के अंत में घटकर चालू प्राप्तियों का 8.3 प्रतिशत हो गया (सारणी 4)।
जोस जे. कट्टूर
मुख्य महाप्रबंधक
प्रेस प्रकाशनी: 2016-2017/3536

सारणी 1: बाह्य ऋण – बकाया और घट-बढ
(बिलियन अमेरिकी डॉलर)
घटकमार्च के अंत में बकायापूर्ण घट-बढप्रतिशत घट-बढ
20152016 सं.2017 अ.मार्च 15 से मार्च 16मार्च 16 से मार्च 17मार्च 15 से मार्च 16मार्च 16 से मार्च 17
12345678
1. बहुपक्षीय52.454.054.51.60.53.00.9
2. द्विपक्षीय21.722.523.20.70.73.43.1
3. आईएमएफ5.55.65.40.1-0.22.1-3.5
4. ट्रेड क्रेडिट12.610.69.7-2.0-1.0-15.6-9.0
5.वाणिज्यिक उधार180.3180.7173.10.4-7.70.2-4.2
6. एनआरआई जमाराशियां115.2126.9116.911.8-10.110.2-7.9
7. रुपया ऋण1.51.31.2-0.2-0.1-15.1-3.9
8. लघुकालिक ऋण85.583.488.0-2.14.6-2.55.5
    जिसमें से       
    लघुकालिक ट्रेड क्रेडिट81.680.086.5-1.66.5-2.08.1
कुल बाह्य ऋण (1 से 8)474.7485.0471.910.3-13.12.2-2.7
मेमो मदें       
क. दीर्घावधि ऋण389.2401.6383.912.4-17.73.2-4.4
ख. लघुकालिक ऋण85.583.488.0-2.14.6-2.55.5
अ: अनंतिम. सं: संशोधित

सारणी 2: मार्च 2017 के अंत में बाह्य ऋण बकाया की अवशिष्ट परिपक्वता
(बिलियन अमेरिकी डॉलर)
घटकएक वर्ष तक की लघु अवधिदीर्घावधिकुल
1 से 2 वर्ष2 से 3 वर्ष3 वर्ष से अधिक(2 से 5)
123456
1. सॉवरेन ऋण (दीर्घावधि) $4.66.46.977.895.7
2. वाणिज्यिक उधार #24.022.622.3102.5171.3
3. एनआरआई जमाराशियां {(i)+(ii)+(iii)}79.316.610.210.7116.9
    (i) एफसीएनआर(बी)11.45.72.51.321.0
    (ii) एनआर(ई)आरए57.410.06.89.083.2
    (iii) एनआरओ10.50.90.80.412.7
4. लघुकालिक ऋण* (मूल परिपक्वता)88.0   88.0
कुल (1 से 4)195.945.639.3191.1471.9
मेमो मदें     
कुल बाह्य ऋण के प्रतिशत के रूप में लघुकालिक ऋण (अवशिष्ट परिपक्वता)41.5
आरक्षित निधियों के प्रतिशत के रूप में लघुकालिक ऋण (अवशिष्ट परिपक्वता)52.9
$: सरकारी प्रतिभूतियों में एफपीआई निवेश सहित।
#: वाणिज्यिक उधार में ट्रेड क्रेडिट, कॉर्पोरेट ऋण लिखतों में एफपीआई निवेश और गैर-सरकारी बहुपक्षीय और द्विपक्षीय उधारों का एक हिस्सा शामिल है और इसलिए मूल परिपक्वता के अंतर्गत अन्य सारणियों में उपलब्ध कराए गए आंकड़ों से शायद मेल न खाए।
*: इसमें मौजूदा कॉर्पोरेट ऋण सीमाओं के अंतर्गत आस्ति पुनर्निर्माण कंपनियों (एआरसी) द्वारा जारी प्रतिभूति प्राप्तियों में एफपीआई निवेश शामिल है।

सारणी 3: सरकारी और गैर-सरकारी बाह्य ऋण
(बिलियन अमेरिकी डॉलर)
घटकमार्च अंत
201420152016 सं.2017 अ.
12345
क. सॉवरेन ऋण (I+II)83.789.793.495.8
    (जीडीपी के प्रतिशत के रूप में)4.54.54.54.1
I. बाह्य सहायता के अंतर्गत सरकारी लेखा पर बाह्य ऋण62.258.561.162.8
II. अन्य सरकारी बाह्य ऋण @21.531.332.433.0
ख. गैर-सरकारी ऋण #362.5385.0391.6376.1
    (जीडीपी के प्रतिशत के रूप में)19.419.419.016.1
ग. कुल बाह्य ऋण (क+ख)446.2474.7485.0471.9
    (जीडीपी के प्रतिशत के रूप में)23.923.923.520.2
अ: अनंतिम. सं: संशोधित    
@: अन्य सरकारी बाह्य ऋण में रक्षा ऋण, एफपीआई द्वारा सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश, विदेशी केंद्रीय बैंक, अंतरराष्ट्रीय संस्थान और आईएमएफ शामिल है।
#: मौद्रिक प्राधिकरण का बाह्य ऋण शामिल है।

सारणी 4: भारत के मुख्य बाह्य ऋण संकेतक
मार्च का अंतबाह्य ऋण (बिलियन अमेरिकी डॉलर)जीडीपी की तुलना में बाह्य ऋण का अनुपात (प्रतिशत)ऋण सेवा अनुपात (प्रतिशत)कुल ऋण में विदेशी मुद्रा भंडारों का अनुपात (प्रतिशत)कुल ऋण में रियायतप्राप्त ऋण का अनुपात (प्रतिशत)विदेशी मुद्रा भंडारों की तुलना में लघुकालिक ऋण (प्रतिशत)कुल ऋण की तुलना में लघुकालिक ऋण का अनुपात (प्रतिशत)
12345678
199183.828.735.37.045.9146.510.2
199693.727.026.223.144.723.25.4
2001101.322.516.641.735.48.63.6
2006139.116.810.1#109.028.412.914.0
2007172.417.54.7115.623.014.116.3
2008224.418.04.8138.019.714.820.4
2009224.520.34.4112.218.717.219.3
2010260.918.25.8106.916.818.820.1
2011317.918.24.495.914.921.320.4
2012360.821.16.081.613.326.621.7
2013409.422.45.971.311.133.123.6
2014446.223.95.968.210.430.120.5
2015474.723.97.672.08.825.018.0
2016 R485.023.58.874.39.023.117.2
2017 P471.920.28.378.49.323.818.6
अ: अनंतिम. सं: संशोधित
# 6.3 प्रतिशत निकलता है जिसमें 7.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर की इंडिया मिलेनियम जमाराशियों की अदायगी और 23.5 मिलियन अमेरिकी डॉलर के बाह्य ऋण की चुकौती शामिल नहीं है।
India’s External Debt as at the end of March 2017
As per the standard practice, India's external debt statistics for the quarters ending March and June are released by the Reserve Bank of India with a lag of one quarter and those for the quarters ending September and December by the Ministry of Finance, Government of India. The external debt data as at end-March 2017 in rupees and US dollars as well as revised data for earlier quarters are set out in Statements 1 and 2, respectively. The major developments relating to India’s external debt as at end-March 2017 are presented below.
Highlights
At end-March 2017, India’s external debt witnessed a decline of 2.7 per cent over its level at end-March 2016, primarily on account of a decline in Non-resident Indian (NRI) deposits and commercial borrowings. The decline in the magnitude of external debt was partly due to valuation loss resulting from the depreciation of the US dollar vis-à-vis the Indian rupee. The external debt to GDP ratio stood at 20.2 per cent as at end-March 2017, lower than its level of 23.5 per cent at end-March 2016.
Major highlights pertaining to India’s external debt as at end-March 2017 are presented below:
  • At end-March 2017, India’s external debt was placed at US$ 471.9 billion, recording a decline of US$ 13.1 billion over its level at end-March 2016 (Table 1).
  • Valuation loss due to depreciation of the US dollar vis-à-vis the Indian rupee was placed at US$ 1.5 billion. Excluding the valuation effect, the decline in external debt would have been US$ 14.6 billion instead of US$ 13.1 billion as at end-March 2017 over the level at end-March 2016.
  • Commercial borrowings continued to be the largest component of external debt with a share of 36.7 per cent, followed by NRI deposits (24.8 per cent) and short-term trade credit (18.3 per cent).
  • At end-March 2017, long-term debt was placed at US$ 383.9 billion, recording a decline of US$ 17.7 billion over its level at end-March 2016.
  • The share of long-term debt in total external debt as at end-March 2017 was 81.4 per cent, lower than 82.8 per cent at end-March 2016.
  • The share of short-term debt (original maturity) in total external debt increased to 18.6 per cent at end-March 2017 from 17.2 per cent at end-March 2016. The ratio of short-term debt (original maturity) to foreign exchange reserves increased to 23.8 per cent as at end-March 2017 (23.1 per cent at end-March 2016).
  • On a residual maturity basis, short-term debt constituted 41.5 per cent of total external debt at end-March 2017 (42.7 per cent at end-March 2016) and stood at 52.9 per cent of total foreign exchange reserves (57.4 per cent at end-March 2016) (Table 2).
  • US dollar denominated debt continued to be the largest component of India’s external debt with a share of 52.1 per cent as at end-March 2017, followed by the Indian rupee (33.6 per cent), SDR (5.8 per cent), Japanese yen (4.6 per cent) and Euro (2.9 per cent).
  • The borrower classification shows that the outstanding debt of the Government increased; however, non-Government debt declined at end-March 2017 (Table 3).
  • Debt service payments declined to 8.3 per cent of current receipts as at end-March 2017 as compared with 8.9 per cent at end-March 2016 (Table 4).
Jose J. Kattoor
Chief General Manager
Press Release : 2016-2017/3536

Table 1: External Debt - Outstanding and Variation
(US$ billion)
ComponentOutstanding as at end-MarchAbsolute variationPercentage variation
20152016 R2017 PMar-16 over Mar-15Mar-17 over Mar-16Mar-16 over Mar-15Mar-17 over Mar-16
12345678
1. Multilateral52.454.054.51.60.53.00.9
2. Bilateral21.722.523.20.70.73.43.1
3. IMF5.55.65.40.1-0.22.1-3.5
4. Trade Credit12.610.69.7-2.0-1.0-15.6-9.0
5. Commercial Borrowings180.3180.7173.10.4-7.70.2-4.2
6. NRI Deposits115.2126.9116.911.8-10.110.2-7.9
7. Rupee Debt1.51.31.2-0.2-0.1-15.1-3.9
8. Short-term Debt85.583.488.0-2.14.6-2.55.5
Of which
Short-term trade credit81.680.086.5-1.66.5-2.08.1
Total External Debt (1 to 8)474.7485.0471.910.3-13.12.2-2.7
Memo Items
A. Long-Term Debt389.2401.6383.912.4-17.73.2-4.4
B. Short-Term Debt85.583.488.0-2.14.6-2.55.5
P: Provisional. R: Revised

Table 2: Residual Maturity of External Debt Outstanding as at End-March 2017
(US$ billion)
ComponentShort-term up to one yearLong-termTotal
1 to 2 years2 to 3 yearsMore than 3 years(2 to 5)
123456
1. Sovereign Debt (long-term) $4.66.46.977.895.7
2. Commercial Borrowings #24.022.622.3102.5171.3
3. NRI deposits {(i)+(ii)+(iii)}79.316.610.210.7116.9
(i) FCNR(B)11.45.72.51.321.0
(ii) NR(E)RA57.410.06.89.083.2
(iii) NRO10.50.90.80.412.7
4. Short-term Debt* (original maturity)88.088.0
Total (1 to 4)195.945.639.3191.1471.9
Memo Items
Short-term Debt (residual maturity) as per cent of Total External Debt41.5
Short-term Debt (residual maturity) as per cent of Reserves52.9
$: Inclusive of FPI Investments in Government Securities.
#: Commercial Borrowings are inclusive of trade credit, FPI investments in corporate debt instruments and a portion of non-Government multilateral and bilateral borrowings and therefore may not tally with the figures provided in other Tables under original maturity.
*: Also includes FPI investments in security receipts issued by Asset Reconstruction Companies (ARCs) under the extant corporate debt limits.

Table 3: Government and Non-Government External Debt
(US$ billion)
ComponentEnd-March
201420152016 R2017 P
12345
A. Sovereign Debt (I+II)83.789.793.495.8
(As a percentage of GDP)4.54.54.54.1
I. External Debt on Government Account under External Assistance62.258.561.162.8
II. Other Government External Debt @21.531.332.433.0
B. Non-Government Debt #362.5385.0391.6376.1
(As a percentage of GDP)19.419.419.016.1
C. Total External Debt (A+B)446.2474.7485.0471.9
(As a percentage of GDP)23.923.923.520.2
P: Provisional. R: Revised
@: Other Government external debt includes Defence Debt, investment in Government Securities by FPIs, Foreign Central Banks, International Institutions and IMF.
#: Includes external debt of Monetary Authority.

Table 4: India’s Key External Debt Indicators
End-MarchExternal Debt
(US$ billion)
Ratio of External Debt to GDP
(Per cent)
Debt Service Ratio
(Per cent)
Ratio of Foreign Exchange Reserves to Total Debt
(Per cent)
Ratio of Concessional Debt to Total Debt
(Per cent)
Ratio of Short-Term Debt to Foreign Exchange Reserves (Per cent)Ratio of Short-Term Debt to Total Debt
(Per cent)
12345678
199183.828.735.37.045.9146.510.2
199693.727.026.223.144.723.25.4
2001101.322.516.641.735.48.63.6
2006139.116.810.1#109.028.412.914.0
2007172.417.54.7115.623.014.116.3
2008224.418.04.8138.019.714.820.4
2009224.520.34.4112.218.717.219.3
2010260.918.25.8106.916.818.820.1
2011317.918.24.495.914.921.320.4
2012360.821.16.081.613.326.621.7
2013409.422.45.971.311.133.123.6
2014446.223.95.968.210.430.120.5
2015474.723.97.672.08.825.018.0
2016 R485.023.58.874.39.023.117.2
2017 P471.920.28.378.49.323.818.6
P: Provisional. R: Revised.
# Works out to 6.3 per cent with the exclusion of India Millennium Deposits (IMDs) repayments of US$ 7.1 billion and prepayment of external debt of US$ 23.5 million.
(Source: rbi.org.in)





Plz Follow Me on: 
((निवेश: 5 गलतियों से बचें, मालामाल बनें Investment: Save from doing 5 mistakes 

No comments