बच्चों की पढ़ाई-लिखाई में महंगाई विलेन बने, तो क्या करें

म्युचुअल फंड में पैसे लगाएं, बच्चों की पढ़ाई-लिखाई के तनाव से बचें   


हर महीने खुदरा और थोक महंगाई दर के आंकड़े जारी होते हैं लेकिन उसमें में ना तो पढ़ाई-लिखाई और ना ही शादी-विवाह की महंगाई दर शामिल रहती है। अगर पढ़ाई-लिखाई और शादी-विवाह की महंगाई दर की बात करें तो जानकारों के मुताबिक, ये आमतौर पर हर महीने  जारी होने वाली खुदरा महंगाई दर के आंकड़ों के मुकाबले 2-4% अधिक रहती है। जाहिर है, ऐसे में हर मां-बाप को अपने बच्चों के बेहतर कैरियर के लिए रोजमर्रा की चीजों के मुकाबले अधिक से अधिक पैसों की जरूरत पड़ेगी। हर मां-बाप का ख्वाब होता है कि उसके बच्चों की पढ़ाई-लिखाई में कोई कमी ना रहे। साथ ही वो ये भी चाहते हैं कि उनका बच्चा पढ़-लिखकर बड़ा आदमी बने। ऐसे में महंगाई अगर विलेन बन जाए, तो क्या करना चाहिए। 

ऐसा माना जाता है कि भारत में शिक्षा की महंगाई दर सालाना 8-10% की दर से बढ़ रही है, जबकि शादी-विवाह की महंगाई दर सालाना 10-12% की दर से। 

महंगाई की मार से तो कोई बच नहीं सकता है, लेकिन अपनी बचत का सही जगह निवेश करके उसके असर को जरूर कम कर सकता है। इसके लिए ऐसे निवेश साधन में पैसे लगाने होंगे जो रियल रिटर्न (% रिटर्न-% खुदरा महंगाई दर) देने में महंगाई दर को मात दे। जानकारों की मानें तो लंबी अवधि के लिए इक्विटी म्युचुअल फंड में निवेश इसके लिए बेहतर और फायदेमंद विकल्प साबित हो सकता है। खासकर, जब आप कोई अच्छा सिस्टैमिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) चुनते हैं। 

>बच्चों की पढ़ाई-लिखाई और शादी-विवाह के खर्चों से निपटने के लिए क्या तैयारी करें 
-सबसे पहले ऑनलाइन कंपाउड इंटरेस्ट कैलकुलेटर से अपने बच्चों की पढ़ाई-लिखाई और शादी-विवाह की संभावित लागत का पता लगायें। आप पता कर सकते हैं कि कितने साल के बाद, पढ़ाई-लिखाई और शादी-विवाह की अनुमानित महंगाई दर के हिसाब से आपको कितने पैसों की जरूरत पड़ सकती है। इससे आपको उस समय की लागत का एक अनुमान मिल जाएगा। इसको आधार बनाकर आप हर महीने एसआईपी में थोड़ी-थोड़ी रकम डाल सकते हैं। इससे आप पर एक ही बार में जो बोझ आने की आशंका रहेगी, वो नहीं रहेगी। कहने का मतलब है कि आपके खर्च का बोझ कई महीनों में बंट जाएगा। तो, आपके लिए पैसे जुटाना आसान हो जाएगा। 

-किसी अच्छे फंड हाउस की  पिछले कुछ सालों से बेहतर प्रदर्शन करने वाली दो इक्विटी म्युचुअल फंड स्कीम चुनें 

-अपने परिवार के सदस्यों से पूछकर अनुमान लगाएं कि आपका बच्चा कितने साल बाद उच्चतर शिक्षा के योग्य हो पाएगा और कितने साल बाद उसकी शादी होगी

-आपने जो भी स्कीम चुना है, उससे संबंधित आवेदन फॉर्म ठीक से भर कर फंड हाउस में जमा कर दीजिए

-इसके बाद ECS Mandatory फॉर्म भी भर दीजिए, ताकि हर महीने की खास तारीख (जो आपको उपलब्ध कराना है) को आपने जो फंड स्कीम चुनें हैं, उसका ऑटोमैटिक ऑनलाइन भुगतान आपके बैंक  अकाउंट से हो जाए।    

-आपने जो फंड चुना है, उससे संबंधित एसआईपी Mandatory फॉर्म भी भरें। आपको बता दें कि फंड में एकमुश्त रकम जमा करने की भी सुविधा होती है। इसलिए आपको बताना होता है कि आप एसआईपी करना चाहते हैं या फिर एक बार में एकमुश्त रकम का निवेश करना चाहते हैं।

-ध्यान रहे अपने इस  निवेश को किसी भी हालत में मत निकालें। आप जिस वित्तीय लक्ष्य को पूरे करने के लिए निवेश कर रहे हैं, उसी काम के लिए पैसे निकालें। 

-आप अपने इस निवेश की लगातर समीक्षा कीजिए। इस दौरान देखिए कि आपका निवेश सही ट्रैक पर तो है। अगर कुछ पैसे कम पड़ने की आशंका दिख रही है तो आप एसआईपी अमाउंट बढ़ा सकते हैं। 

-हां, सबसे जरूरी बात, आप इस काम के लिए अपने फाइनेंशियल एडवाइजर या प्लानर की मदद लेना ना भूलें। 
-किसी चाइल्ड प्लान के नाम से मिल रहे प्रोडक्ट को लेकर भ्रम में ना रहे हैं। आप हमेशा अपने वित्तीय लक्ष्य को
ध्यान में रखकर ही प्लान बनाएं और पैसे लगाएं। अगर कोई चाइल्ड प्लान आपके फाइनेंशियल प्लान में हर तरह से फिट बैठ रहा हो, तभी उसमें निवेश के बारे में विचार कीजिए।  कई बार प्रोडक्ट बेचने के लिए और ग्राहक को भ्रम में डालने के लिए नामकरण चाइल्ड प्लान के नाम से करते हैं।   

डिस्क्लेमर: Mutual Fund Investments are subject to market risks, read all scheme related documents carefully.

> म्युचुअल फंड से जुड़ी और जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर जाएं............
((म्युचुअल फंड की महफिल: भाग-3: म्युचुअल फंड में निवेश के फायदे
((म्युचुअल फंड में पैसे लगाइए, टैक्स बचाइए; जानें क्यों और कैसे होगा फायदा 
((म्युचुअल फंड में पैसे लगाइए, टैक्स बचाइए; जानें क्यों और कैसे होगा फायदा 
((म्युचुअल फंड के जरिए फाइनेंशियल प्लानिंग पूरी करें
((म्युचुअल फंड: क्यों है निवेश का सबसे बेहतर जरिया: भाग-1
((म्युचुअल फंड: क्यों है निवेश का सबसे बेहतर जरिया: भाग-2
(म्युचुअल फंड के जरिए महिलाओं को कैसे मिलेगी आर्थिक आजादी? 
((रिटायरमेंट फंड बनाएं, म्युचुअल फंड की मदद से  
(एफएमपी (फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान्स) क्या है
((म्युचुअल फंड कंपनियों की सूची
((टीचर हैं तो क्या हुआ, फाइनेंशियल प्लानिंग करना तो, बनता है बॉस
((डॉक्टर कैसे ठीक रखें फाइनेंशियल सेहत 
((शादी की खुशी में फाइनेंशियल प्लानिंग करना कहीं भूल तो नहीं गए
((म्युचुअल फंड के जरिए महिलाओं को कैसे मिलेगी आर्थिक आजादी? 
((रिटायरमेंट फंड बनाएं, म्युचुअल फंड की मदद से  
((चाइल्ड के लिए अभी से करें प्लान, तभी बनी रहेगी उसकी मुस्कान
((बच्चों से है प्यार, तो उनके लिए रखें फाइनेंशियल प्लान तैयार
(('Money मित्र' बनकर दें बच्चों को लाड़-प्यार  

('बिना प्रोफेशनल ट्रेनिंग के शेयर बाजार जरूर जुआ है'
((शेयर बाजार: जब तक सीखेंगे नहीं, तबतक पैसे बनेंगे नहीं! 
((जानें वो आंकड़े-सूचना-सरकारी फैसले और खबर, जो शेयर मार्केट पर डालते हैं असर
((ये दिसंबर तिमाही को कुछ Q2, कुछ Q3 तो कुछ Q4 क्यों बताते हैं ?
((कैसे करें शेयर बाजार में एंट्री 
((सामान खरीदने जैसा आसान है शेयर बाजार में पैसे लगाना
((खुद का खर्च कैसे मैनेज करें? 
(ब्लॉग एक, फायदे अनेक

Plz Follow Me on: 

No comments